बेहतर स्वास्थ्य के लिए मेंटल स्थिति का बेहतर होना आवश्यक है | VentAllOut blog

हम बेहतर निर्णय तब ले पाते हैं जब हमारा मानसिक स्वास्थ्य बेहतर हो। यदि आप मेंटली फिट हैं तो जीवन में आने वाली समस्याओं को आसानी से सुलझा सकते हैं। यदि आप मेंटली फिट हैं तो जीवन में आने वाली समस्याओं को आसानी व बेहतर तरीके से सुलझा सकते हैं।यदि आप मेंटली फिट हैं तो जीवन में आने वाली समस्याओं को आसानी से सुलझा सकते हैं, अपने स्वास्थ्य संबंधी उचित निर्णय ले सकते हैं। आजकल भागदौड़ वाली लाइफस्टाइल में स्ट्रेस होना एक आम बात है। ऐसे में खुद को मेंटली फिट रखना भी एक चैलेंज होता है। हम अपने स्वस्थ दिमाग के चलते ही जीवन में होने वाली समस्याओं का सामना कर सकते हैं। इसके अलावा तरक्की के पड़ाव पर पहुंचने के लिए भी स्वस्थ दिमाग की आवश्यकता होती है। इस समय जब सम्पूर्ण विश्व कोविद-19 की मार को झेल रहा है ऐसे में सर्वे व स्वास्थ्य संगठन बता रहें हैं कि लोगों की मानसिक स्थिति काफी प्रभावित हुई है। ऐसे में जरूरी है कि हम अपने मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने का प्रयास करें। ख़राब मेंटल प्रॉब्लम से जूझ रहे लोगों के कुछ सामान्य लक्षण इस प्रकार हैं, जैसे- लोगों से अलग-थलग रहना अकेले रहना, कामकाज में असामान्यता विशेष रूप से स्कूल या ऑफिस में, खेल या किसी भी गतिविधि में अरुचि, एकाग्रता में समस्या, याददाश्त क्षमता में कमी या कुछ समझने में मुश्किल होना, उदास रहना आदि लक्षण हो सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि स्वस्थ शरीर में स्वस्थ दिमाग रहता है। स्वस्थ शरीर रखने के लिए आपको अपने सेहत का ध्यान रखना चाहिए। इसके लिए आप हेल्दी भोजन का सेवन करें और खूब पानी पिएं।

इसके अलावा व्यायाम करें और पूरी नींद लें। खासकर धूम्रपान से दूरी बनाकर रखें।  यदि मेंटल प्रॉब्लम से पीड़ित व्यक्ति आप से कोई बात या फीलिंग बताता है, तो उसको ध्यान से सुनें। वो कैसा महसूस करता है? यह सुनना वास्तव में कारगर हो सकता है। उन्हें फील कराएं कि उनको जब भी जरूरत है, आप उनके साथ हैं। हालांकि अपने तनाव की वजहों को रोकना तो हर किसी के बस में नहीं होता है। लेकिन उन वजहों से खुद को कम से कम परेशान करना आप पर जरूर निर्भर करता है, जिसके लिए सबसे पहले आपको यह बात समझने की जरूरत है कि आप अपने जीवन में किस चीज को कितनी अहमियत देते हो, या कोई चीज आपको कितना ज्यादा इफेक्ट कर सकती है। एक नए शोध के अनुसार हफ्ते में कम से कम 3 बार एक्सरसाइज करने से मानसिक तनाव 19 फीसदी तक कम होता है. शोधकर्ताओं की मानें तो एक्सरसाइज करने वालों को कम तनाव होता है, जबकि बहुत तनाव में रहने वाले लोग वो होते हैं जो एक्सरसाइज ही नहीं करते। चूँकि एक बेहतर स्वास्थ्य और मानसिक स्थिति की चाहत हर इंसान में होती है लेकिन उसके लिए जरूरी है कि हम अपनी मानसिक स्थिति को पहले बेहतर व मजबूत बनाने का प्रयास करें। लोगों से मिलें यदि जरूरी हो तो किसी एक्सपर्ट या मनोचिकित्सक की भी सहायता भी ले सकते हैं।


Posted : 3 weeks ago

Talk Freely

Mood Board
Language