लॉकडाउन में आपका नेतृत्व कम्पनी का भविष्य तय करेगा | VentAllOut blog

जीवन में परिस्थिति एक जैसी कभी नहीं रहती। प्रकृति का नियम भी कुछ ऐसा है कि जीवन लगातार बदलाव के दौर से गुजरता रहता है। आज मानव के ऊपर कोरोना के रूप में एक बड़ी विपत्ति आ गई है। जिसके चलते सामाजिक जीवन के साथ-साथ हर तरह की कार्य-प्रणाली में बदलाव आ रहा है। ऐसे ही बदलाव विभिन्न व्यवसायों में भी आ रहें हैं। जिससे लॉकडाउन,वर्क फ्रॉम होम,सोशल डिस्टैन्सिंग आदि नए कॉन्सेप्ट सामने आ रहें हैं। ऐसे में इन बदलाव के केंद्र में सबसे ज्यादा किसी व्यवसाय या कम्पनी के बॉस अथवा कम्पनी लीडर हैं;जिन पर कंपनी को इस लॉकडाउन में आगे बढ़ाने के साथ-साथ अपने वर्कर्स अथवा कर्मचारियों को बेहतर रूप से संभालने की दोहरी जिम्मेदारी है। कोरोनावायरस महामारी की शुरुआत के बाद से, वर्क कल्चर के इस नए युग में अग्रणी टीमों के निर्माण से लेकर,उनके क्षमता बढ़ाने वाले आदि कार्य हैं जो बॉस अथवा मालिकों को करनी है। यह एक ऐसा समय है जब उन्हें अपने बेहतर नेतृत्व क्षमता के प्रदर्शन के साथ उसमे सुधार और दूरदर्शिता का मिश्रण करना जरुरी हो गया है। तो बेहतर नेतृत्व के लिए आप अपनी निम्न स्किल्स पर ध्यान दे सकते हैं -

पूछताछ के दौरान अथवा ऑनलाइन वर्कर्स मीटिंग में बोलने से ज्यादा सुनने का प्रयास करें, जिससे कर्मचारियों में आप की अच्छी इमेज बन सकती है क्योंकि इससे उनके बीच ये मैसेज जायेगा कि आप अपने हर कर्मचारी पर बराबर ध्यान दे रहें है और वह कंपनी के लिए अपना सर्वोच्च योगदान देने का प्रयास करेगा। 

भावनात्मक रूप से कर्मचारियों से जुड़ने का प्रयास करें। महामारी का अनुभव प्रत्येक कर्मचारी के लिए अलग-अलग तरीकों से प्रकट होगा। उनके अंदर दु:ख, भय, चिंता, अतिसंवेदनशीलता और बहुत तरह के भाव उभर रहे होंगे। ये भावनाएं दिन-प्रतिदिन, सप्ताह-दर-सप्ताह में, या घंटे में बदल भी जाएंगी! आप अपने को भावनात्मक रूप से मजबूत और संवेदनशील बनायें ताकि सभी कर्मचारियों की हर तरह की मनोदशा समझकर उनका हौसला बढ़ा सकें। एक लीडर होने के नाते आपकी जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है ऐसे में यह याद रखने की जरुरत है कि 'जीवन सुरक्षा सर्वोच्च है'। अतः अपने कर्मचारियों को यह समझाने की जरूरत है कि वे सभी तरह के सरकारी नियम-कानून का पालन करें और हर तरह से अपने जीवन की सुरक्षा को प्रमुखता दें। अपने टीम पर विश्वास बढ़ाएं उनको जिम्मेदारी देने के साथ उनकी हर तरह से मदद करने का प्रयास करना चाहिए। नियमित वार्तालाप या मीटिंग करने का प्रयास करें  दैनिक - संचार बहुत जरूरी है। इसके अलावा कर्मचारियों की आर्थिक स्थिति पर ध्यान देने की जरूरत है। यदि आवश्यक हो तो बीच-बीच में कर्मचारियों के लिए मोटिवेशन प्रोग्राम बना सकते हैं। यह सोचें कि  "COVID-19 के बाद दुनिया कैसी होगी।" त्वरित रूप से यह स्पष्ट है कि एक टीम के रूप में सकारात्मक और भविष्य केंद्रित होने पर ध्यान दिया जाना चाहिए। और उसके अनुसार अपने व्यवसाय या कंपनी को तैयार करें, साथ ही कर्मचारियों की स्किल्स को बेहतर बनाने और उन्हें जरूरी मदद उपलब्ध कराने के हर संभव प्रयास करें


Posted : a month ago

Talk Freely

Mood Board
Language